Earthquake: भूकंप क्या है, भूकंप की परिभाषा, भूकंप का कारण, भूकंप के प्रकार

Earthquake: भूकंप या भूचाल पृथ्वी की सतह के हिलने को कहते हैं। भूकंप पृथ्वी के स्थलमंडल में अचानक ऊर्जा के उत्पन्न होने से होता है जो भूकंपीय तरंगें पैदा करता है। पृथ्वी की सतह टेक्टोनिक प्लेटों से बनी है जो हमारे ग्रह की भूमि और महासागरों दोनों के नीचे स्थित हैं। इन प्लेटों के हिलने से पहाड़ बन सकते हैं या ज्वालामुखी फट सकते हैं। इन प्लेटों के टकराने से हिंसक भूकंप भी आ सकते हैं, जहां पृथ्वी की सतह हिलती है।

भूकंप दुनिया के कुछ हिस्सों में आम हैं, क्योंकि कुछ स्थान, जैसे कैलिफोर्निया, दो प्लेटों के मिलन बिंदु पर है। जब वे प्लेटें एक-दूसरे से टकराती हैं और भूकंप का कारण बनती हैं, तो परिणाम घातक और विनाशकारी हो सकते हैं।

भूकंप क्या है? (Whats is an Earthquake?)

भूकंप तब होता है जब पृथ्वी के दो खंड अचानक एक दूसरे के पीछे खिसक जाते हैं। जिस सतह पर वे फिसलते हैं उसे फॉल्ट या फॉल्ट प्लेन कहा जाता है। पृथ्वी की सतह के नीचे का स्थान जहाँ से भूकंप शुरू होता है, हाइपोसेंटर कहलाता है, और पृथ्वी की सतह पर इसके ठीक ऊपर के स्थान को उपरिकेंद्र कहा जाता है।

Divorce Process: तलाक की पूरी प्रक्रिया यहाँ पर आपको स्टेप बाइ स्टेप बताएंगे

भूकंप की परिभाषा (Earthquake Definition)

कभी-कभी भूकंप के पूर्वाभास होते हैं। ये छोटे भूकंप होते हैं जो उसी स्थान पर आते हैं जहां बाद में बड़ा भूकंप आता है। वैज्ञानिक यह नहीं बता सकते हैं कि जब तक बड़ा भूकंप नहीं आता तब तक भूकंप एक पूर्वाभास है। सबसे बड़े, मुख्य भूकंप को मेनशॉक कहा जाता है। मेनशॉक्स में हमेशा बाद के झटके आते हैं। ये छोटे भूकंप होते हैं जो बाद में उसी स्थान पर आते हैं जहां मेनशॉक होता है। मेनशॉक के आकार के आधार पर, आफ्टरशॉक्स मेनशॉक के बाद भी हफ्तों, महीनों और वर्षों तक जारी रह सकते हैं।

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना (PMKVY) क्‍या है, इसमें कैसे लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं?

भूकंप का कारण (Cause of Earthquake)

पृथ्वी की चार प्रमुख परतें हैं: आंतरिक कोर, बाहरी कोर, मेंटल और क्रस्ट। क्रस्ट और मेंटल का शीर्ष हमारे ग्रह की सतह पर एक पतली त्वचा बनाते हैं। लेकिन यह त्वचा एक टुकड़े में नहीं है – यह पृथ्वी की सतह को ढकने वाली पहेली की तरह कई टुकड़ों से बनी है। इतना ही नहीं, ये पहेली के टुकड़े धीरे-धीरे इधर-उधर घूमते रहते हैं, एक-दूसरे से फिसलते हुए एक-दूसरे से टकराते रहते हैं। हम इन पहेली टुकड़ों को टेक्टोनिक प्लेट कहते हैं, और प्लेटों के किनारों को प्लेट की सीमा कहा जाता है।

प्लेट की सीमाएं कई दोषों से बनी हैं, और दुनिया भर में अधिकांश भूकंप इन्हीं दोषों के कारण आते हैं। चूँकि प्लेटों के किनारे खुरदुरे होते हैं, वे चिपक जाते हैं जबकि बाकी प्लेट चलती रहती है। अंत में, जब प्लेट काफी दूर चली जाती है, तो किनारे एक दोष पर चिपक जाते हैं और भूकंप आता है।

अग्निपथ योजना क्या है, कौन आवेदन कर सकता है?

भूकंप के प्रकार (Types of Earthquake)

भूकंप मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं:

टेक्टोनिक और ज्वालामुखी भूकंप। टेक्टोनिक भूकंप दोष और प्लेट की सीमाओं के साथ अचानक गति से उत्पन्न होते हैं। सक्रिय ज्वालामुखियों के नीचे बढ़ते लावा या मैग्मा से प्रेरित भूकंप ज्वालामुखीय भूकंप कहलाते हैं।

भूकंप कैसे दर्ज किए जाते हैं? (How are Earthquake Recorded?)

भूकंपों को सीस्मोग्राफ नामक उपकरणों द्वारा रिकॉर्ड किया जाता है। वे जो रिकॉर्डिंग करते हैं उसे सिस्मोग्राम कहा जाता है। सीस्मोग्राफ में एक आधार होता है जो जमीन में मजबूती से जम जाता है, और एक भारी वजन जो मुक्त लटका रहता है। जब भूकंप के कारण जमीन हिलती है, तो सिस्मोग्राफ का आधार भी हिलता है, लेकिन लटकता हुआ वजन नहीं होता है। इसके बजाय वह वसंत या तार जिससे वह लटका हुआ है, सभी गति को अवशोषित कर लेता है। सिस्मोग्राफ के हिलने वाले हिस्से और गतिहीन हिस्से के बीच की स्थिति में अंतर दर्ज किया जाता है।

इन देशों में सबसे सस्ते दाम पर खरीदें सोना

क्या वैज्ञानिक भूकंप की भविष्यवाणी कर सकते हैं? (Can scientists predict earthquakes?)

नहीं, और यह संभावना नहीं है कि वे कभी भी उनकी भविष्यवाणी करने में सक्षम होंगे। वैज्ञानिकों ने भूकंप की भविष्यवाणी करने के कई अलग-अलग तरीकों की कोशिश की है, लेकिन कोई भी सफल नहीं हुआ है। किसी विशेष समय के भूकंप को जिसमे वैज्ञानिकों को पता है कि भविष्य में किसी समय एक और भूकंप आएगा, लेकिन उनके पास यह बताने का कोई तरीका नहीं है कि यह कब होगा।

Earthquake: भूकंप क्या है, भूकंप की परिभाषा, भूकंप का कारण, भूकंप के प्रकार 1
Earthquake

भूकंप परिमाण पैमाना (Earthquake Magnitude Scale)

भूकंप का वर्णन करने के लिए परिमाण पैमानों का उपयोग इतना छोटा किया जा सकता है कि उन्हें ऋणात्मक संख्याओं में व्यक्त किया जाता है। पैमाने की भी कोई ऊपरी सीमा नहीं है।

भारत में सबसे बड़ा भूकंप कब आया था? (When was the biggest earthquake in India?)

भारत में सबसे तेज भूकंप 08/15/1950 को भारत-चीन क्षेत्र में रिक्टर पैमाने पर 8.6 की तीव्रता के साथ आया था।

भूकंप समूह (Earthquake clusters)

अधिकांश भूकंप एक अनुक्रम का हिस्सा होते हैं, जो स्थान और समय के संदर्भ में एक दूसरे से संबंधित होते हैं। अधिकांश भूकंप समूहों में छोटे झटके होते हैं जो बहुत कम या कोई नुकसान नहीं पहुंचाते हैं, लेकिन एक सिद्धांत है कि भूकंप एक नियमित पैटर्न में आ सकते हैं।

भूकंप की तीव्रता (Intensity of Earthquake)

पृथ्वी का कांपना या हिलना एक सामान्य घटना है जो निस्संदेह मनुष्य को प्राचीन काल से ज्ञात है। स्ट्रॉन्ग-मोशन एक्सेलेरोमीटर के विकास से पहले, जो सीधे पीक ग्राउंड स्पीड और एक्सेलेरेशन को माप सकता है, विभिन्न भूकंपीय तीव्रता के पैमानों पर वर्गीकृत किए गए प्रभावों के आधार पर पृथ्वी के हिलने की तीव्रता का अनुमान लगाया गया था। केवल पिछली शताब्दी में ही इस तरह के झटकों के स्रोत को पृथ्वी की पपड़ी में टूटने के रूप में पहचाना गया है, किसी भी इलाके में झटकों की तीव्रता न केवल स्थानीय जमीनी परिस्थितियों पर निर्भर करती है, बल्कि टूटने की ताकत या परिमाण पर भी निर्भर करती है।

भूकंपों को मापना और उनका पता लगाना (Measuring and locating Earthquake)

भूकंप के आकार का वर्णन करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले वाद्य पैमाने 1930 के दशक में रिक्टर परिमाण पैमाने के साथ शुरू हुए। यह किसी घटना के आयाम का अपेक्षाकृत सरल माप है, और 21वीं सदी में इसका उपयोग न्यूनतम हो गया है। भूकंपीय तरंगें पृथ्वी के आंतरिक भाग से होकर गुजरती हैं और इसे सीस्मोमीटर द्वारा बड़ी दूरी पर रिकॉर्ड किया जा सकता है। भूतल तरंग परिमाण को 1950 के दशक में दूरस्थ भूकंपों को मापने और बड़ी घटनाओं की सटीकता में सुधार करने के साधन के रूप में विकसित किया गया था। पल परिमाण पैमाना न केवल झटके के आयाम को मापता है बल्कि भूकंपीय क्षण (कुल टूट क्षेत्र, गलती की औसत पर्ची और चट्टान की कठोरता) को भी ध्यान में रखता है। जापान मौसम विज्ञान एजेंसी भूकंपीय तीव्रता पैमाना, मेदवेदेव-स्पोनहेउर-कर्णिक स्केल, और मर्कल्ली तीव्रता पैमाना देखे गए प्रभावों पर आधारित हैं और झटकों की तीव्रता से संबंधित हैं।

भूकंप के प्रभाव (Effects of Earthquake)

हिलना और जमीन टूटना (Shaking and ground rupture)
भूकंप और जमीन का टूटना भूकंप के मुख्य प्रभाव हैं, जिसके परिणामस्वरूप इमारतों और अन्य कठोर संरचनाओं को कमोबेश गंभीर नुकसान होता है। स्थानीय प्रभावों की गंभीरता भूकंप के परिमाण के जटिल संयोजन, उपरिकेंद्र से दूरी और स्थानीय भूवैज्ञानिक और भू-आकृति विज्ञान स्थितियों पर निर्भर करती है, जो लहर के प्रसार को बढ़ा या कम कर सकती हैं। ग्राउंड-शेकिंग को ग्राउंड एक्सेलेरेशन द्वारा मापा जाता है।

मृदा द्रवीकरण (Soil Liquefaction)
मृदा द्रवीकरण तब होता है, जब झटकों के कारण, जल-संतृप्त दानेदार सामग्री (जैसे रेत) अस्थायी रूप से अपनी ताकत खो देती है और एक ठोस से तरल में बदल जाती है। मृदा द्रवीकरण के कारण कठोर संरचनाएं, जैसे भवन और पुल, द्रवीकृत निक्षेपों में झुक सकते हैं या डूब सकते हैं। उदाहरण के लिए, 1964 के अलास्का भूकंप में, मिट्टी के द्रवीकरण के कारण कई इमारतें जमीन में धंस गईं, अंततः खुद ही ढह गईं।

मानव प्रभाव (Human impacts)
भूकंप से चोट लग सकती है और जान-माल का नुकसान हो सकता है, सड़क और पुल को नुकसान हो सकता है, सामान्य संपत्ति की क्षति हो सकती है, और इमारतें ढह सकती हैं या अस्थिर हो सकती हैं (संभावित रूप से भविष्य में ढह सकती हैं)। इसके परिणाम बीमारी, बुनियादी आवश्यकताओं की कमी, मानसिक परिणाम जैसे पैनिक अटैक, बचे लोगों को अवसाद और उच्च बीमा प्रीमियम ला सकते हैं।

भूस्खलन (Landslides)
भूकंप ढलान अस्थिरता पैदा कर सकते हैं जिससे भूस्खलन हो सकता है, जो एक प्रमुख भूवैज्ञानिक खतरा है। भूस्खलन का खतरा तब बना रह सकता है जब आपातकालीन कर्मी बचाव कार्य का प्रयास कर रहे हों।

इसके अलावा आग, सूनामी और बाढ़ जैसी परिस्थितियाँ उत्पन्न होने की संभावना रहती है।

लेटेस्ट खबरें पढ़ने के लिए आप हमारे चैनल को फेसबुकट्वीटर और इंस्‍टाग्राम पर फॉलो और लाइक करें।

Leave a Comment